English    ||          

योजनाएं

छत्तीसगढ़ सांख्यिकी

महत्वपूर्ण लिंक

Skip Navigation Links

पूंजी निर्माण


पूंजी निर्माण क्या है ?

पूंजी निर्माण एक लेखा अवधि के दौरान अचल पूंजी निवेश, पूंजी स्कंध के मूल्य में हुई वृद्धि के बराबर होती है।

जब बचत का प्रयोग उत्पादन हेतु निवेश के रुप में हो तब पूंजी का निर्माण होता है।

कार्य पद्धति :-

यह प्रभाग सकल स्थायी पूंजी निर्माण (जीएफसीएफ) के अनुमान तैयार करता है। जीएफसीएफ के आकलन तैयार करने के लिए, राज्य की भौगोलिक सीमाओं के भीतर सार्वजनिक और निजी क्षेत्र द्वारा उत्पन्न पूंजी को ध्यान में रखा जाता है। सार्वजनिक क्षेत्र में जीएफसीएफ केन्द्र और राज्य प्रशासनिक विभागों, विभागीय वाणिज्यिक उपक्रमों (DCU’S), स्थानीय निकायों, केन्द्रीय गैर विभागीय वाणिज्यिक उपक्रमों (CNDCUs) और सुप्राक्षेत्रीय क्षेत्रों का अनुमान तैयार किया जाता है। अनुमानों को तैयार करने के लिए, राज्य प्रशासनिक विभागों, विभागीय वाणिज्यिक उपक्रमों (DCU’S), स्थानीय निकायों, केन्द्रीय गैर विभागीय वाणिज्यिक उपक्रमों (CNDCUs) के वार्षिक खाता रिपोर्ट को एकत्र किया जाता है। वार्षिक खाता रिपोर्ट को उद्देश्य वार वर्गीकृत कर आंकड़ों का सारणीकरण और संकलन करने के बाद प्रकाशन तैयार किया जाता है।

मुख्य गतिविधियों / प्रकाशित रिपोर्ट :-

  • राज्य प्रशासनिक विभागों, विभागीय वाणिज्यिक उपक्रमों (DCU’S), स्थानीय निकायों, केन्द्रीय गैर विभागीय वाणिज्यिक उपक्रमों (CNDCUs) विभाग की वार्षिक खाता रिपोर्ट संग्रह करना।
  • सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों/राज्य के उपक्रमों के वार्षिक लेखा रिपोर्ट का विश्लेषण और प्रकाशन की तैयारी ।
  • “सकल स्थिर पूंजी निर्माण के अनुमान“ प्रकाशन की तैयारी के लिए संग्रहण, संकलन और सारणीयन ।