English    ||          

योजनाएं

छत्तीसगढ़ सांख्यिकी

महत्वपूर्ण लिंक

Skip Navigation Links

राज्यीय आय


सकल राज्य घरेलू उत्पाद (राज्यीय आय) :-

सकल राज्य घरेलू उत्पाद को राज्य सीमा के भीतर एक निश्चित (आमतौर पर एक वर्ष) समय अवधी में उत्पादित समस्त वस्तुओं एवं सेवाओं के बाजार मूल्य के रूप में परिभाषित की जाती है। इसे अन्य प्रकार से देश के भितर दिये गये समय में सभी अंतिम वस्तुओं और सेवाओं के कुल मूल्य वर्धन मौद्रिक रूप में आंकलित की जाती है।

सकल राज्य घरेलू उत्पाद अर्थव्यवस्था एवं समाजिक-आर्थिक विकास को मापने की महत्वपूर्ण सूचक है। इस प्रकार सकल राज्य घरेलू उत्पाद नीति निर्धारको, प्रशासको, योजना निर्माताओं और अनुसंधानकर्ता हेतु बहुत महत्वपूर्ण है। जिसे आर्थिक एवं सांख्यिकी संचालनालय के उत्कृष्ट प्रकाशन ’’आर्थिक सर्वेक्षण’’ में एक अध्याय के रुप में शामिल किया जाता है।

कार्यविधिः-

राज्यीय आय संभाग प्राथमिक, द्वितीयक एवं तृतियक क्षेत्रों के लिये सकल राज्य घरेलू उत्पाद के अनुमान की गणना करता है। गणना की कार्यविधि एवं मार्गदर्शन राष्ट्रीय लेखा प्रणाली 2008 एवं केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय, नई दिल्ली द्वारा प्रदान की गई है। आंकड़ो के स्त्रोत एवं कार्यविधि हमारे प्रकाशन ‘‘छत्तीसगढ़ राज्य के सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान’’ नामक प्रकाशन में दी गई है। यह प्रकाशन इस वेब साईट के होम पेज पर देखी जा सकती है।

आंकड़ों के संकलन एवं परीक्षण उपरांत राज्यीय आय सम्भाग सामान्यतः जनवरी-फरवरी मे प्रत्येक वर्ष सकल राज्य घरेलू उत्पाद की गणना करता है। यह अनुमान केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय नई दिल्ली द्वारा संयुक्त तुलनीय चर्चा के दौरान सत्यापन किया जाता है।

अग्रिम अनुमान जो वर्तमान वर्ष में तैयार किया जा रहा है का अंतिम रूप अगामी तीसरे वर्ष में अनअंतिम आंकड़ों के प्राप्त होने एवं तुलनीय अनुमानों पर केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय नई दिल्ली से संयुक्त चर्चा उपरांत किया जायेगा। उदाहरण के तौर पर वर्ष 2016-17 के लिये अग्रिम अनुमान जनवरी 2017 में तैयार की जायेगी। जनवरी 2018 में इसी अवधि (वर्ष 2016-17) का त्वरित अनुमान तैयार किया जायेगा। इसी प्रकार माह जनवरी 2019 में वर्ष 2016-17 का प्रावधिक अनुमान एवं जुलाई 2019 में अंतिम अनुमान बनेगा अंततः वर्ष 2016-17 का अनुमान केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय, नई दिल्ली द्वारा चर्चा उपरांत अंतिम अनुमान का रूप ले लेगा। संक्षेप में :

वर्ष 2016-17 अग्रिम माह जनवरी में तैयार होगा।
वर्ष 2016-17 त्वरित माह जनवरी 2018 में तैयार होगा एव केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय में चर्चा।
वर्ष 2016-17 प्रावधिक माह जनवरी 2019 में तैयार किया जायेगा।

टिप्पणी :-

सभी अनुमान जो प्रत्येक वर्ष जनवरी-फरवरी में तैयार की जाती है। ‘‘संयुक्त चर्चा’’ नामक कार्यक्रम जो कि केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय, नई दिल्ली में सभी राज्यों के लिए आयोजित होती है में चर्चा की जाती है।

मुख्य गतिविधियां:-

  • सकल राज्य घेरलू उत्पाद के अनुमान तैयार करने हेतु विभिन्न विभागो एवं केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय से आंकड़ो का संकलन ।
  • राज्य सरकार के बजट एवं स्थानीय निकायों के बजटों का संकलन एवं विश्लेषण ।
  • उद्योगो के वार्षिक सर्वे डाटा का संकलन एवं विश्लेषण।
  • अखिल भारतीय औद्योगिक उत्पादन के सूचकांक, थोक मूल्य सूचकांक, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक का हमारे राज्य के सापेक्ष में विश्लेषण।

प्रकाशनः-

आर्थिक एवं सांख्यिकी संचालनालय छ.ग. का राज्यीय आय सम्भाग प्रत्येक वर्ष अपना प्रकाशन ‘‘छत्तीसगढ़ राज्य के घरेलू उत्पाद के अनुमान’’ नामक प्रकाशन तैयार करता है।